बातचीत की समस्या

यदि आप बगैर ऊंची आवाज़ किया बिना अपनी बात नहीं रख सकते , तो सोचें समस्या किस तरफ है , चिलाना कमजोरी है
कुछ एक नियम ज़रूरी हैं जब आप बात करते है ,
नियम :
बोलने से पहले चार बार सोचे
बिना बोले पहले सुने, और सुनते समय अपना ध्यान अपनी घडी या मोबाइल पर न रखें और यह एहसास दिलायें की आप वाकई सुन रहें है न की सुनने की फॉर्मेलिटी कर रहें है
दूसरे की बात खत्म होने से पहले न बोले
यदि आपको बातें मूर्खता पूर्णे लगें तो सोचें की क्यों अगला आपसे ऐसी बातें कर रहा है , और समस्या का समाधान विवेकपूर्ण तरीके से निकले , जवाब नहीं बने तो चुप हो कर समय मांगे समस्या के समाधान के लिए

सेक्स की समस्या

आपस मैं प्रेम करने वाले दम्पतियों के बीच मैं भी यौन समब्ध अच्छे हो , यह जरूरी नहीं
सेक्स एक दूसरे को शारीरक एवं मानसिक रूप करीब लाता है , बेहतर सेक्स जीवन एक खुशहाल जिंदगी की निशानी है
समाधान
सेक्स के लिए समय निश्चित करें , आपस मैं चर्चा करें और नित नये प्रयोग करें
क्या आपको एवं आपके दम्पति को उत्तेजित करता है , उसकी लिस्ट तैयार कर , वयवस्था अनुसार सेक्स करें , और एक दूसरे को ख़ुश करने की कोशिश करें

पैसे की समस्या

यह समस्या शादी से पहले भी शुरू हो सकती है, और सम्पूर्ण जिंदगी भर भी रह सकती है
और इस समस्या का समाधान आपसी समझ मैं है , अत्यधिक इच्छाएँ एवं होड़ आपकी जिंदगी मैं नित नयी समस्या ले कर आ सकता है
समाधान
अपनी वर्तमान वित्तीय स्थिति के बारे में ईमानदार रहो
वित्तीय स्थिति पर बातचीत गुस्से से न करें
आय एवं ऋण छिपाएं नहीं है.
वित्तीय स्थिति पर एक दुसरो को दोष न दे
संयुक्त बचत खाता खोल , नियमित रूप से पैसे जमा करें
एक दूसरे को कुछ एक पैसा अपने विवेक अनुसार खर्च करने की आजादी हो
अपने अल्पकालिक और दीर्घकालिक लक्ष्यों को निर्धारित करें
अपने माता – पिता एवं प्रिय जानो की देखभाल के बारे में बात करें

प्राथमिकता की समस्या

रिश्ता होने के बाद उसकी प्राथमिकता यदि खत्म होती है तो समस्या है , विवाहित रिश्ते तभी कामयाब है जब जीवन का केंद्र बिंदु वैवाहिक जीवन हो
समाधान
एक दूसरे की प्रशंसा करें
समय निकाल , एक दूसरे की बातें सुने
पुराने अच्छे यादों की बातें करें , और उसे पुनः जीवित करें
पहली मुलाकात की जगह , या फिर पुरानी कोई भी जगह, या चीज़ जो आप भूल चुके हो , उसे याद करें एवं चर्चा करें
बीच बीच मैं , थैंक यू अवस्य बोले

झगड़े

व्यवाहिक जीवन का एक हिस्सा है , झगड़ा , और यह कभी कभार है तो ठीक अन्यथा परेशानी का सबब है

समाधान
अपने आप को शिकार न समझें
खुद के साथ ईमानदार रहो, और समस्या का समाधान खोजो , बहस से बचें , आरोप भरी टिप्पणी न करें , एक गहरी सांस लेकर अपनी रणनीति बदले
वह पुरानी प्रतिक्रिया जिससे आपको अतीत मैं कष्ट हुआ है , यदि वैसी ही प्रतिक्रिया आज भी है तो परिणाम अलग नहीं होगें , सोचें और रणनीति बदलें
आप गलत है तो माफ़ी मागें
आप किसी और के व्यवहार को नियंत्रित नहीं कर सकते, लेकिन अपने आपको को तो कर सकते है

विश्वास

विश्वास एक रिश्ते का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है
समाधान
समय पर पहुंचे
कहा हुआ आवस्य करें
बात बात पर झूट न बोलें
एक अच्छा श्रोता बने
पुराने घावों को न खोदे
लेट होने पर सूचित करें
दूसरे की भावनाओं के प्रति संवेदनशील रहें

साथ मिलकर हसें जरूर

Comments

comments