कोई न कोई चाहिए प्यार करने वाला , एक मिले तो टिक, दो मिले तो बोनस, तीन मिले तो किस्मत , चार मिले तो , मैनेज कर लगेंगे एक साथ । प्रेम करना और केवल हां सुनना कितना अच्छा लगता है , विवाह सिर्फ शौक , प्रेम मनोरंजन , और सिर्फ प्रशंसक अपने, इसके आलावा सब बकवास । मेरा खून, खून , तेरा खून, पानी , मैं करूँ तो प्यार , तू करें तो अत्याचार । अपनी बात सही , ऐसे समझ ले या वैसे , पर समझ जरूर लो इनकी बात ।
मशवरा बाबा घंटा जी का– अपने आप से बहार निकल, दूसरों की तरफ से भी सोचें , एक बार बेवकूफ बना लो , दो बार भी चलेगा , पर बार बार नहीं

Comments

comments