प्रेम क्षमता से अधिक सैक्स आकांक्षाएं , और प्रेम क्षमता आसमान पर , तो का कीजिये जनाब । कामसूत्र प्रेमियों , कोई थोड़ी सी मदद कर दे तो प्रेम समझ कर दे या ले मत देना । मेट्रो की तरह तेरा….. प्यार, चढ़े जल्दी , उतरे जल्दी । जल्दी जल्दी प्यार होना और फिर सिर पकड़ दहाड़े मार रोना , दोखेबाज दोखेबाज….. कहने को अपना रूटीन एक्सरसाइज माने, क्योंकि अभी कोई और भी है कतार मैं, हो सकता है , आज ही मुलाकात हो बाजार मैं ।

मशवरा बाबा घंटा जी का – हरेक चीज़ जो दिमाग मैं है , प्रैक्टिकली संभव हो , जरूरी नहीं , ज्यादा फ़िल्में न देखें ।

Comments

comments